140 IPC in Hindi

140 IPC in Hindi

भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 140 गलत तरीके से रोकने के अपराध से संबंधित है। इस धारा के अनुसार, जो कोई भी स्वेच्छा से किसी व्यक्ति को उसके विधिसम्मत मार्ग के अधिकार का प्रयोग करने से रोकता है, वह गलत अवरोध का अपराध करता है। 140 IPC in Hindi

सदोष अवरोध के अपराध के प्रमुख तत्व हैं:

अपराधी ने पीड़ित को अपने कानूनी अधिकार का प्रयोग करने से रोका होगा।

बाधा अपराधी द्वारा स्वेच्छा से किया गया होना चाहिए। 140 IPC in Hindi

गलत अवरोध का अपराध एक संज्ञेय और जमानती अपराध है, जिसका अर्थ है कि पुलिस के पास इस मामले में किसी व्यक्ति को बिना वारंट के गिरफ्तार करने का अधिकार है, और आरोपी अदालत से जमानत प्राप्त कर सकता है। 140 IPC in Hindi

सदोष अवरोध के अपराध के लिए सजा एक अवधि के लिए कारावास है जिसे एक महीने तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना जो एक हजार रुपए तक बढ़ाया जा सकता है, या दोनों। सजा की गंभीरता मामले की परिस्थितियों और अपराध की गंभीरता पर निर्भर करती है। 140 IPC in Hindi

गलत अवरोध के अपराध को साबित करने के लिए, अभियोजन पक्ष को निम्नलिखित स्थापित करना चाहिए:

पीड़ित को उसके कानूनी अधिकार का प्रयोग करने से रोका गया।

बाधा स्वेच्छा से अपराधी द्वारा किया गया था। 140 IPC in Hindi

गलत अवरोध का अपराध विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है, जैसे किसी व्यक्ति को किसी विशेष मार्ग से गुजरने से शारीरिक रूप से रोकना, या किसी को दरवाजे या फाटकों को बंद करके जगह छोड़ने से रोकना। यह किसी को नुकसान पहुँचाने की धमकी देकर या उन्हें अपने वैध अधिकार का प्रयोग करने से रोकने के लिए बल प्रयोग करके भी किया जा सकता है। 140 IPC in Hindi

सदोष अवरोध के अपराध की तुलना में गलत अवरोध का अपराध कम अपराध है, जो आईपीसी की धारा 341 के तहत दंडनीय है। गलत तरीके से कैद करने के अपराध में किसी की सहमति के बिना या कानून के अधिकार के बिना कैद करना या कैद करना शामिल है, जबकि गलत तरीके से रोकने के अपराध में ऐसे कारावास या कारावास की आवश्यकता नहीं होती है। 140 IPC in Hindi

ऐसे कई बचाव हैं जिन्हें गलत अवरोध के मामलों में उठाया जा सकता है। इसमें शामिल है:

इरादे की कमी: अगर अपराधी का इरादा पीड़ित के रास्ते में बाधा डालने का नहीं था, तो उसे गलत तरीके से रोकने के अपराध का दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।

आवश्यकता: यदि अपराधी आत्मरक्षा में या किसी अन्य व्यक्ति की संपत्ति की रक्षा के लिए कार्य कर रहा था, तो वह आवश्यकता की रक्षा कर सकता है। 140 IPC in Hindi

स्वैच्छिकता का अभाव: यदि बाधा अपराधी द्वारा स्वेच्छा से नहीं किया गया था, लेकिन एक दुर्घटना या किसी अन्य अप्रत्याशित परिस्थिति का परिणाम था, तो वह स्वैच्छिकता की कमी का बचाव उठा सकता है।

अंत में, सदोष अवरोध का अपराध सदोष कारावास के अपराध की तुलना में कम अपराध है। इसमें किसी को स्वेच्छा से अपने कानूनी अधिकार का प्रयोग करने से रोकना शामिल है। इस अपराध के लिए सजा एक अवधि के लिए कारावास है जिसे एक महीने तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना जो एक हजार रुपये तक बढ़ाया जा सकता है, या दोनों। ऐसे कई बचाव हैं जो गलत तरीके से रोकने के मामले में उठाए जा सकते हैं, जैसे इरादे की कमी, आवश्यकता और स्वैच्छिकता की कमी। 140 IPC in Hindi

Leave a Reply