217 IPC in Hindi

217 IPC in Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 217 किसी व्यक्ति को सजा या संपत्ति को जब्ती से बचाने के इरादे से कानून के निर्देश की अवहेलना करने वाले लोक सेवकों के अपराध से संबंधित है। 217 IPC in Hindi

इस धारा के अनुसार, जो कोई लोक सेवक होते हुए, और ऐसे लोक सेवक होते हुए, जिसे कानून को लागू करने का कर्तव्य सौंपा गया है, कानून के उस निर्देश की अवज्ञा करता है जिसमें उसे खुद को ऐसे लोक सेवक के रूप में आचरण करना चाहिए, बचाने के इरादे से, या यह जानने की संभावना है कि वह किसी भी व्यक्ति को कानूनी सजा से बचा लेगा, या बचाने के इरादे से, या यह संभावना जानते हुए कि वह किसी भी संपत्ति को जब्ती या किसी भी आरोप से बचा लेगा, जिसके लिए वह कानून द्वारा उत्तरदायी है, किसी एक अवधि के लिए कारावास से दंडित किया जाएगा जो तीन साल तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ। 217 IPC in Hindi

यह धारा लोक सेवकों पर लागू होती है जिन्हें कानून को लागू करने का कर्तव्य सौंपा गया है, और जो किसी व्यक्ति या संपत्ति को कानूनी सजा या जब्ती से बचाने के लिए जानबूझकर या जानबूझकर कानून के निर्देशों की अवज्ञा करते हैं। एक लोक सेवक के लिए कानून की अवहेलना करना और इस तरह से कार्य करना एक गंभीर अपराध है, क्योंकि यह जनता के विश्वास और सम्मान को कम करता है जो कानून के लिए और उन लोगों के लिए है जो इसे लागू करने के लिए जिम्मेदार हैं।217 IPC in Hindi

इस अपराध के लिए तीन साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों का प्रावधान है। यह एक कठोर दंड है, क्योंकि यह अपराध की गंभीरता और कानून के शासन को बनाए रखने के महत्व को दर्शाता है।यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह खंड केवल लोक सेवकों पर लागू होता है जिन्हें कानून को लागू करने का कर्तव्य सौंपा गया है। यह अन्य व्यक्तियों पर लागू नहीं होता है जो समान आचरण में शामिल हो सकते हैं। 217 IPC in Hindi

अंत में, भारतीय दंड संहिता की धारा 217 एक गंभीर अपराध है जो लोक सेवकों पर लागू होता है जो किसी व्यक्ति या संपत्ति को कानूनी सजा या जब्ती से बचाने के लिए जानबूझकर या जानबूझकर कानून के निर्देशों की अवहेलना करते हैं। एक लोक सेवक के लिए कानून की अवहेलना करना और इस तरह से कार्य करना एक गंभीर अपराध है, और इस अपराध की सजा गंभीर है। लोक सेवकों के लिए कानून के शासन को बनाए रखना और अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों के अनुसार कार्य करना महत्वपूर्ण है। 217 IPC in Hindi

Leave a Reply