370 IPC मानव तस्करी (Human Trafficking) in Hindi

भारतीय दण्ड सहिंता ( Indian Penal Code ) की धारा 370 क्या है । पाठको द्वारा धारा 370 के सन्दर्भ मे सबसे ज्यादा गूगल पर Search किये जाने वाला वाक्य है ” Section 370 IPC in Hindi ”।

धारा 370 मानव की तस्करी से सम्बंधित कानून के बारे मे विवरण देता है।  इस कानून मे मानव को विभिन्न श्रेणियों मे बांटा गया है।

धारा 370 मे सजा का प्रावधान श्रेणियों को ध्यान मे रखते हुए किया गया है । किसी भी व्यक्ति को मानव तस्करी की कितनी सजा दी जाये , ये इस बात पर निर्भर करता है जिस मानव की तस्करी की गयी है वो महिला है या फिर नाबालिग बच्चा है और तस्करी का मकसद क्या है।

  • बच्चो की तस्करी करने पर क्या सजा मिलेगी। 
  • महिलाओ की तस्करी करने पर क्या सजा मिलेगी। 

हमारे ब्लॉग पोस्ट को हमने पाठकों के नज़रिए से लिखा है हमारा मकसद है

की कानून की जानकारी हांसिल करने मे भाषा को दीवार नहीं बनना चाहिए । ब्लॉग मे हिंगलिश ( Hindi+English ) का इस्तेमाल किया गया है

इस ब्लॉग पोस्ट मे धारा 370 IPC से जुड़े सजा के प्रावधान ( Punishment in section 370 IPC ) और जमानत  के प्रावधानों ( Bail in section 370 IPC ) की भी संपूर्ण जानकारी शामिल की गयी है।

आशा करते है की आपको धारा 370 IPC से जुड़े सवाल ” Section 370  IPC in Hindi ” का जवाब मिल जायेगा।

  1. धारा 370 IPC क्या है ?
  2.  धारा 370 IPC में सजा (Punishment)का प्रावधान ?
  3.  धारा 370 में जमानत (Bail) का प्रावधान ?
  4.  धारा 370 ज़मानती है या गैर जमानती अपराध है ?

धारा 370 IPC क्या है ?

मानव तस्करी समाज की एक बहुत ही भद्दी कुरीति है। मानव तस्करी का प्रचलन लम्बे समय से चलता हुआ आ रहा है। लेकिन जब हम आज के वक़्त की बात करते है तो एक सभ्य समाज की संरचना मे हर मानव के अधिकारों ( Human Rights ) की बात करते है।

लेकिन आज के वक़्त मे भी मानव की तस्करी की जाती है। आमतौर पर आज भी मानव तस्करी से जुड़े अपराध रोज देखने को मिलते है। मानव तस्करी से सम्बंधित अपराधों के विषयों को धारा 370 मे दिया गया है।

मानव तस्करी क्यों की जाती है ?

मानव तस्करी को अच्छे से समझने के लिए इसे हम तीन भागों मे विभाजित करते है । पुरुष , महिला और बच्चे

पुरुषों की तस्करी क्यों की जाती है ।

पुरुषो की तस्करी के पीछे जो कारण है। वो है जबरन मजदूरी ( forced labor ) अंग निकालना  (  Organ removal ) .

महिलाओ की तस्करी क्यों की जाती है ।

महिलाओं की तस्करी के पीछे जो सबसे बड़ा कारण है वो है महिलाओं को वैश्यावृति ( Prostitute ) के व्यापर मे धकेलना।

बच्चों  की तस्करी क्यों की जाती है।

समाज का सबसे घिनोना चेहरा है बच्चों की तस्करी। बच्चों से बाल मजदूरी करवाई जाती है । बच्चों का इस्तेमाल अंग काटने के बाद भीख मंगवाने के लिए किया जाता है।

#####################################################################

जब कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति की तस्करी करता है, या तस्करी करने वाले व्यक्ति को शरण देता है।
तब कानूनी तौर पर यह मान लिया जाता है कि तस्करी करते समय या इसमें संलिप्त होते समय ही यह अपराध पूर्ण हो गया।
आईपीसी की धारा 370 के अनुसार को जो कोई भी किसी व्यक्ति या व्यक्तियों को किसी प्रलोभन या धोखाधड़ी के माध्यम से अथवा अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करके उन व्यक्तियों को स्थानांतरित करता है तब यह प्रक्रिया तस्करी के अपराध में सम्मिलित होती है।

 धारा 370 IPC में सजा (Punishment)का प्रावधान ?

भारतीय दंड संहिता की धारा 370 के अंतर्गत  तस्करी के संज्ञेय अपराध हेतु गैर जमानती दंड निर्धारित किया गया है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 370 के अनुसार अगर कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति विशेष या व्यक्तियों तस्करी करता है तो इसके लिए भारतीय न्यायालय तस्करी करने वाले व्यक्ति तथा तस्करी में मदद करने वाले व्यक्ति को आजीवन कारावास एवं  आर्थिक जुर्माना लगाकर उस व्यक्ति को दंडित करती है।

 धारा 370 ज़मानती है या गैर जमानती अपराध है ?

भारतीय दंड संहिता की धारा 370 एक गैर जमानती अपराध है, गैर जमानती अपराध के अंतर्गत कोर्ट दोषी व्यक्ति की जमानत पर निर्णय लेता है। गैर जमानती अपराध एक ऐसा अपराध होता है जिसमें अपराध करने वाले व्यक्ति को मजिस्ट्रेट के सामने पेश होना आवश्यक होता है। डकैती, लूट, रेप, हत्या इत्यादि अपराध भी गैर जमानती अपराध की श्रेणी में आते हैं।

संक्षेप में हम बात करें तो भारतीय दंड संहिता धारा 370 व्यक्तियों की तस्करी से संबंधित अपराध है। इसके अंतर्गत किसी व्यक्ति विशेष की तस्करी, एक से अधिक व्यक्ति की तस्करी, नाबालिग की तस्करी, एक से अधिक नाबालिगों की तस्करी, एक से अधिक अवसरों पर नाबालिग की तस्करी के अपराध को सम्मिलित किया गया है। धारा 370 के अंतर्गत किए गए अपराध संज्ञेय होते हैं तथा यह गैर जमानती अपराध के लिस्ट में आते हैं। ऐसे अपराधियों की सजा सत्र की अदालत द्वारा विचारणीय होती है।

बच्चो की तस्करी करने पर क्या सजा मिलेगी। 

child trafficking punishment in India

 

 

 

Leave a Reply